भारतीय विदेशी मुद्रा बाजार

ईटीएफ और इंडेक्स फंड

ईटीएफ और इंडेक्स फंड
इंडेक्स फंड के तहत इंट्रा-डे ट्रेडिंग में सेलिंग शॉर्ट मार्जिन पर खरीदना संभव नहीं है। उनकी एनएवी निपटान दिन के अंत ईटीएफ और इंडेक्स फंड में होती है। वास्तव में, यदि आप किसी विशेष समय अवधि से पहले इंडेक्स फंड इकाइयों को बेचते हैं, तो आपको एक एक्जिट लोड का भुगतान करना पड़ सकता है।

Index Fund vs ETF: कोरोना संकट में निवेश का ‘स्मार्ट’ तरीका, पैसिव इन्वेस्टर्स के लिए क्या बेहतर?

ईटीएफ और इंडेक्स फंड के बीच अंतर

कई निवेशकों के बीच एक लोकप्रिय संदेह हैं, कि एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) और इंडेक्स फंड में क्या अंतर है? जैसा कि दोनों उपकरण सूचकांक(index) में निवेश करने का एक स्रोत हैं, सवाल यह है कि कौन सा बेहतर है? इस लेख में, हम देखेंगे कि दोनों में क्या समानताएँ और अंतर हैं, और कौन सा अधिक अनुकूल है। लेकिन इससे पहले, आइए संक्षेप में समझें कि ईटीएफ और इंडेक्स फंड्स क्या हैं।

एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF)

ईटीएफ मूल रूप से प्रतिभूतियों की एक टोकरी है जिसकी प्रायोजित निधि (आमतौर पर बड़े संस्थानों जैसे- एचडीएफसी सिक्योरिटीज) द्वारा आयोजित की जाती है, जो प्रतिभूतियों की उस टोकरी को अंतर्निहित(Inherent) रखने के साथ निधियों के शेयरों को जारी करती है। सरल भाषा में कहे तो, एक बड़ी संस्था कुछ विशिष्ट प्रतिभूतियों को एक विशिष्ट अनुपात में खरीदती है,और इन प्रतिभूतियों की एक टोकरी बनाती है। बाद में वह संस्था व्यापार निवेश के उद्देश्य से खुले बाजार में अपनी इकाइयाँ जारी करती है, ओर उन प्रतिभूतियों की टोकरी को अंतर्निहित (Inherent) रखती हैं। प्रतिभूतियों की यह टोकरी आम तौर पर एक सूचकांक(index) का प्रतिनिधित्व करती है लेकिन कभी-कभी अलग भी होती है।

Mutual Fund Investment : इंडेक्स फंड या ईटीएफ, किसमें निवेश हैं आपके लिए ज्यादा फायदेमंद

investment

  • इंडेक्स फंड (index Fund) में निवेश के लिए निवेशक के पास डीमैट अकाउट होना जरूरी नहीं है।
  • ईटीएफ (ETF) की खरीद-बिक्री स्टॉक एक्सचेंज पर होती है, जिससे इसकी कीमत बदलती रहती है।
  • इंडेक्स फंड की नेट एसेट वैल्यू (ईटीएफ और इंडेक्स फंड net asset value) रोजाना कारोबार के बाद तय होती है।

निवेशक जब इंडेक्स फंड (index fund) में निवेश करता है या अपनी यूनिट्स बेचता है तो उसकी कीमत नेट एसेट वैल्यू (Net Asset Value) पर आधारित होती है। एसेट मैनेजमेंट कंपनी (Asset Management Company) रोजाना कारोबार के अंत में यूनिट्स की एनएवी घोषित करती है। इसके उलट ईटीएफ की कीमत शेयर बाजार में सूचीबद्ध शेयरों की तरह होती है। बाजार में लिक्विडिटी और मांग और सप्लाई (demand and supply) ईटीएफ और इंडेक्स फंड के आधार पर उसकी कीमत तय होती है। इसलिए उसकी कीमत एनएवी के मुकाबले प्रीमियम पर या डिस्काउंट पर हो सकती है। इसलिए बाजार में ज्यादा उतार-चढ़ाव होने पर ईटीएफ की कीमत और इंडेक्स के स्तर में अंतर दिख सकता है।

ईटीएफ में पैसे लगाने से पहले समझिए ईटीएफ की पूरी गणित, ईटीएफ और इंडेक्स फंड में फर्क क्या

ईटीएफ में पैसे लगाने से पहले समझिए ईटीएफ की पूरी गणित, ईटीएफ और इंडेक्स फंड में फर्क क्या

पिछले कुछ समय से ईटीएफ काफी चलन में है और ईटीएफ और इंडेक्स फंड म्यूचुअल फंड (एमएफ) इंडस्ट्री ने भी कई एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) लॉन्च किए। इनमें विदेश में निवेश करने वालों से लेकर, कुछ अन्य जो सेक्टर या थीम में निवेश करते हैं, शामिल हैं। लेकिन क्या आपको पता है ईटीएफ क्या होते हैं और उन्हें कैसे चुनना चाहिए? ईटीएफ लेना चाहिए या इंडेक्स फंड ?

ईटीएफ इंडेक्स फंड से ईटीएफ और इंडेक्स फंड कैसे अलग हैं?
इंडेक्स फंड और ईटीएफ दोनों ही पैसिव फंड हैं। दोनों फंडों का लक्ष्य अपने बेंचमार्क इंडेक्स से बेहतर प्रदर्शन या अंडरपरफॉर्म नहीं करना है। ईटीएफ, एक इंडेक्स फंड की तरह, एक बेंचमार्क इंडेक्स चुनता है और फिर बेंचमार्क के रिटर्न को कॉपी करने की कोशिश करता है। ईटीएफ केवल स्टॉक एक्सचेंज में उपलब्ध है, जहां आप बाजार के कामकाज के दौरान खरीद और बिक्री कर सकते हैं। इंडेक्स फंड का भी लक्ष्य इंडेक्स के रिटर्न से मेल खाना है। लेकिन वे निवेशकों को इंट्राडे खरीद या बिक्री मूल्य की पेशकश नहीं करते हैं।

क्या हैं इंडेक्स फंड?

इंडेक्स फंड को इंडेक्स टाइड या इंडेक्स ट्रैक्ड म्यूचुअल फंड के नाम से भी जानते हैं. इस तरह के फंड शेयर बाजार के किसी इंडेक्स मसलन निफ्टी 50 या सेंसेक्स 30 में शामिल कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं. इंडेक्स में सभी कंपनियों का जितना वेटेज होता है, स्कीम में उसी रेश्यो में उनके शेयर खरीदे जाते हैं. इसका मतलब यह है कि ऐसे फंडों का प्रदर्शन ईटीएफ और इंडेक्स फंड उस इंडेक्स जैसा ही होता है. इंडेक्स फंड ऐसे निवेशकों के लिए बेहतर है जो रिस्क कैलकुलेट कर चलना चाहते हैं, भले ही उन्हें ठीक ठा​क रिटर्न मिले. यानी इंडेक्स फंड में पैसा डूबने का खतरा बहुत कम होता है.

  • इंडेक्स फंड पैसिवली मैनेज होते हैं, इसलिए सक्रिय रूप से प्रबंधित किए जाने वाले फंडों के मुकाबले इंडेक्स फंड पर कम खर्च आता है. इनका टोटल एक्सपेंस रेश्यो बहुत कम आता है.
  • इंडेक्स फंड का एक और फायदा यह है कि इससे निवेशकों को अपना पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई करने का मौका मिल जाता है. इससे पैसा डूबने का खतरा ईटीएफ और इंडेक्स फंड भी कम हो जाता है. अगर एक कंपनी के शेयर में कमजोरी आती है तो दूसरे में ग्रोथ से नुकसान बैलेंस हो जाता है.
  • इंडेक्स फंडों में ट्रैकिंग एरर कम होता है. इससे इंडेक्स को इमेज करने की एक्यूरेसी बढ़ जाती है. इस तरह रिटर्न का ज्यादा सटीक अनुमान लगाया जा सकता है.

एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड ETF

एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड यानी ETF इंडेक्‍स में निवेश करने का अवसर देता है. जो लोग शेयर में पैसा लगाना चाहते हैं लेकिन जोखिम नहीं लेना चाहते, वे इस विकल्प को चुन सकते हैं. फंड मैनेजर इंडेक्‍स में जो भी शेयर होते हैं वे उसी अनुपात में स्‍टॉक लेते हैं और ETF बनाते हैं. ईटीएफ या एक्सचेंज ट्रेडेड फंड शेयरों के एक सेट में निवेश करते हैं. ये अमूमन एक खास इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. ईटीएफ को केवल स्टॉक एक्सचेंज से खरीदा या बेचा जा सकता है, जिस तरह आप शेयरों को खरीदते हैं. जो निवेशक कंजर्वेटिव हैं और बाजार का रिस्क नहीं लेना चाहते हैं, उन्हें ईटीएफ में पैसा लगाना चाहिए.

Golden Years FD Scheme : ICICI बैंक ने एक महीने में दूसरी बार बढ़ाईं ब्याज दरें, सीनियर सिटिजन्स को एफडी पर मिलेगा 6.95% ब्याज

क्यों बेहतर है विकल्प

  • ETF इंडेक्स का ही रेप्लिका होता है. कहने का मतलब यह है कि इंडेक्स में जितनी तेजी आएगी, अमूमन इन्हें भी ग्रोथ का उतना फायदा मिल सकता है.
  • सेंसेक्स हो या निफ्टी दोनों में रैली आने पर ये इंडेक्स भी तेजी से मजबूत होते हैं, जिनका फायदा ETF निवेशकों को मिलता है.
  • एक बड़ा फायदा यह है कि ज्यादातर इंडेक्स बेस्ड ETF का एक्सपेंस रेश्यो भी कम होता है. यानी इनमें निवेश करना सस्ता होता है.
  • ETF रिस्‍क को डाइवर्सिफाई करता है. MF में रिस्‍क डाइवर्सिफाई होता है लेकिन उसमें वर्गीकरण ज्‍यादा है.
  • अगर पोर्टफोलियो में ज्‍यादा उतार-चढ़ाव नहीं चाहते तो ETF बेहतर ऑप्‍शन है. ETF में टैक्‍स देनदारी सामान्‍य शेयरों में निवेश जैसी है.

(Disclaimer: हमने यहां सिर्फ ईटीएफ और इंडेक्स फंड के बारे में जानकारी दी है. यह निवेश की सलाह नहीं है. निवेश से पहले अपने स्तर पर एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें.)

रेटिंग: 4.43
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 703
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *