ट्रेडिंग प्लेटफार्मों

प्राइस बार

प्राइस बार
Redmi note 10 price: रेडमी नोट 10 की जानते हैं नई कीमत। (फोटोः mi.com)

​गर्मी बढ़ते ही 13 प्रतिशत तक महंगे हुए AC और फ्रिज, इस साल दूसरी बार बढ़ी कीमतें

इस बार गर्मी के मौसम में ऐसी की सुकून भरी ठंडी हवा लेना आपको महंगा पड़ने वाला है।

Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: April 07, 2021 11:07 IST

AC- India TV Hindi

इस बार गर्मी के मौसम में ऐसी की सुकून भरी ठंडी हवा लेना आपको महंगा पड़ने वाला है। महंगाई की मार एयर कंडीशनर पर भी पड़ी है। प्राइस बार इसके साथ ही रेफ्रिजरेटर की कीमतों में भी बढ़ोत्तरी हुई है। देश की प्रमुख कंपनियों ने एयर कंडीशनर की कीमत में 8 से 13 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी कर दी है। बीते 100 दिनों में यह दूसरी बड़ी बढ़ोत्तरी है। इससे पहले जनवरी में भी कच्चे माल की कीमतों का हवाला देकर कंपनियों ने दाम प्राइस बार बढ़ाए थे।

अंग्रेजी अखबार टाइम्स आफ इंडिया से बाचतीत में ब्लू स्टार कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर बी थियागराज ने कहा कि स्टील, कॉपर और एबीएस प्लास्टिक की कीमतें मार्च 2020 से लेकर अब तक 25 प्रतिशत तक प्राइस बार बढ़ गई हैं। जनवरी में हमने कीमतों में 5 से 8 फीसदी की बढ़ोत्तरी की थी। अब एक बार फिर हमने 1 अप्रैल से कीमतों में 3.5 फीसदी की बढ़ोत्तरी की है। हालांकि उन्होंने कहा कि कीमतों में वृद्धि के बावजूद कुछ चुनिंदा ऐसी की कीमत पिछले साल से 10 प्रतिशत कम हैं।

वहीं पैनासोनिक ​ने भी कीमतों में 6 से 8 प्रतिशत तक की वृद्धि कर दी है। इसके साथ ही रेफ्रिजरेटर की कीमतों में भी 3 से 4 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी की गई है। वहीं कंपनी का दावा है कि पिछले 3 से 4 महीनों में कंपनी ने ऐसी की बिक्री में 25 प्रतिशत तक की प्राइस बार ग्रोथ दर्ज की है।

दूसरी ओर एलजी ने भी कीमतों में 6 से 8 प्रतिशत की वृद्धि की है। देश की अग्रणी कंपनी वोल्टाज ने भी कीमतों में 3 से 5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। गोदरेज अप्लायंसेस ने भी जनवरी में 3 से 5 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी दर्ज की थी। वहीं अब एक बार फिर से 3 से 5 प्रतिशत की वृद्धि की जा रही है।

Redmi Note 10 के एक या दो बार नहीं बल्कि 5वीं बार बढ़े दाम, जानें अब क्या है नई कीमत

Redmi Note 10 price : Redmi Note प्राइस बार 10 की कीमत में 5वीं बार इजाफा किया गया है। इस स्मार्टफोन में बैक पैनल पर क्वाड कैमरा सेटअप है, जिसमें प्राइमरी कैमरा 48 मेगापिक्सल का है। इसमें 5000 mAh की बैटरी है, जो फास्ट चार्जर के साथ आती है।

Redmi Note 10 के एक या दो बार नहीं बल्कि 5वीं बार बढ़े दाम, जानें अब क्या है नई कीमत

Redmi note 10 price: रेडमी नोट 10 की जानते हैं नई कीमत। (फोटोः mi.com)

Redmi Note 10 के कीमत में एक बार फिर इजाफा हो गया है। यह कीमत पहली या दूसरी बार नहीं बल्कि पांचवीं बार बढ़ी है। दरअसल, भारत में रेडमी ने अपने नोट 10 सीरीज को इस साल मार्च में लॉन्च किया था और इस सीरीज का बेस मॉडल रेडमी नोट 10 था। इसकी कीमत कीमत 11999 रुपये थी।

अब रेडमी नोट 10 की शुरुआती कीमत 13999 रुपये है, जिसमें 4 जीबी रैम और 64 जीबी इंटरनल स्टोरेज मिलती है। 6 जीबी रैम वेरियंट को 13999 रुपये में लॉन्च किया गया था लेकिन अब इसकी कीमत 15499 रुपये है। रेडमी अपने किफायती स्मार्टफोन के लिए जाना जाता है।

Redmi Note 10 specifications

किफायती सेगमेंट प्राइस बार में रेडमी नोट 10 एक लोकप्रिय स्मार्टफोन है। इस स्मार्टफोन मे 6.43 इंच का फुलएचडी प्लस एमोलेड डिस्प्ले दिया गया है। इसका रिफ्रेश रेट 60hz है। इस फोन में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 678 प्रोसेसर का इस्तेमाल किया गया है। साथ ही िसमें 6 जीबी तक रैम और 128 जीबी तक इंटरनल स्टोरेज मिलती है। सॉफ्टवेयर की बात करें तो यह स्मार्टफोन एंड्रॉयड 11 बेस्ड MIUI 12.5 पर काम करता है।

Horoscope 2022: नवंबर माह के बचे हुए 13 दिनों में कुछ खास हो सकता है घटित, जानिए क्या कहता है आपका राशिफल

साल के आखिरी 25 दिनों में इन 4 राशियों के लोगों की बदल सकती है किस्मत, जानिये कहीं आपकी राशि तो नहीं शामिल

Electric Vehicle Buying Guide: 160 km की रेंज, 16 इंच के अलॉय व्हील और हाइटेक फीचर्स वाला है ये इलेक्ट्रिक स्कूटर, जानें कीमत

Redmi Note 10 Feature

4जी कनेक्टिविटी के साथ आने वाला यह फोन डुअल सिम है। इसमें ब्लूटूथ 5.0 दिया है। साथ ही यह फोन टाइप सी चार्जिंग पोर्ट और 3.5 एमएम के ऑडियो जैक के साथ आता है। इसमें 5000 mAh की बैटरी दी है, जो 33W के फास्ट चार्जर के साथ आती है, जिससे फोन की बैटरी तेजी से चार्ज होती है।

Redmi Note 10 camera

Redmi Note 10 के कैमरा सेटअप की बात करें तो इसके बैक पैनल पर क्वाड कैमरा सेटअप दिया गया है। इसमें 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा दिया गया है, जिसमें सोनी आईएमएक्स 582 सेंसर दिया गया है। 8 मेगापिक्सल का सेकेंडरी कैमरा दिया गया है, जो अल्ट्रा वाइड एंगल कैमरा है। 2 मेगापिक्सल का मैक्रो कैमरा दिया गया है। साथ ही 2 मेगापिक्सल का डेप्थ सेंसर है। इसमें 13 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा दिया है, जो सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के काम आता है।

CNG Price Hike : 6 दिनों में तीसरी बार बढ़ गए सीएनजी के दाम, आज भी 2.50 रुपये हुई महंगी

CNG Price Hike : अप्रैल में यह दामों में तीसरी बढ़ोतरी है, वहीं पिछले महीने की शुरुआत से अबतक आठवीं बढ़ोतरी हो चुकी है. पिछले महीने से लेकर अबतक सीएनजी दिल्ली-एनसीआर में 9 रुपये प्रति किलोग्राम महंगी हो गई है.

Click to Expand & Play

CNG Price Hike : 6 दिनों में तीसरी बार बढ़ गए सीएनजी के दाम, आज भी 2.50 रुपये हुई महंगी

पेट्रोल-डीजल के दाम तो एक तरफ रुला ही रहे हैं, सीएनजी (compressed natural gas) के दामों ने अलग फजीहत कर रखी है. बुधवार यानी 6 अप्रैल, 2022 को सीएनजी के दामों में फिर से बढ़ोतरी की गई है. गैस सप्लाई कंपनियों ने आज प्रति किलोग्राम पर सीएनजी के दाम 2.50 रुपये बढ़ाए गए हैं. उल्लेखनीय बात ये है कि दिल्ली में Indraprastha Gas Ltd (IGL) की तरफ से पिछले छह दिनों में तीन बार सीएनजी मंहगी की जा चुकी है. आईजीएल की घोषणा के बाद दिल्ली-एनसीआर में आज सुबह 6 बजे से सीएनजी के नए दाम लागू हो चुके हैं.

यह भी पढ़ें

पिछले एक महीने में आठवीं बढ़ोतरी

आईजीएल की वेबसाइट के मुताबिक, दामों में बढ़ोतरी के बाद अब दिल्ली में सीएनजी की कीमत अब 64.11 रुपये से बढ़कर 66.61 रुपये प्रति किलोग्राम तक हो गई है.

बता दें कि अप्रैल में यह दामों में तीसरी बढ़ोतरी है, वहीं पिछले महीने की शुरुआत से अबतक आठवीं बढ़ोतरी हो चुकी है. पिछले महीने से लेकर अबतक सीएनजी दिल्ली-एनसीआर में 9 रुपये प्रति किलोग्राम महंगी हो गई है.

इसके पहले 1 अप्रैल को दिल्ली में सीएनजी की कीमत में 80 पैसे प्रति किलोग्राम की वृद्धि हुई थी. उस दिन पीएनजी के दाम भी बढ़ाए गए थे. पाइप के जरिए घरों पहुंचाई जाने वाली रसोई गैस (पीएनजी) के दाम पांच रुपये प्रति घन मीटर बढ़े थे. फिर 4 अप्रैल को दामों में सीधे ढाई रुपये की बढ़ोतरी कर दी गई.

IGL की बढ़ी है लागत

बता दें कि आईजीएल राष्ट्रीय राजधानी में सीएनजी और पाइप वाली रसोई गैस की खुदरा बिक्री करती है. आईजीएल घरेलू फील्ड से प्राकृतिक गैस हासिल करती है और साथ ही आयातित एलएनजी भी खरीदती है. सरकार ने 31 मार्च, 2022 को स्थानीय फील्ड से उत्पादित गैस की कीमत 2.9 अमेरिकी डॉलर से बढ़ाकर 6.10 अमेरिकी डॉलर प्रति दस लाख ब्रिटिश थर्मल इकाई कर दी थी. उद्योग सूत्रों का कहना है कि इससे आईजीएल की लागत बढ़ गई है, और कीमतों में बढ़ोतरी जरूरी हो गई थी. सीएनजी की कीमत विभिन्न शहरों में अलग-अलग है. इसका कारण वैट (मूल्य वर्धित कर) जैसे स्थानीय करों का प्रभाव है.

Onion Price: इस बार 'आंसू' नहीं निकालेंगे प्याज के दाम, सरकार दिसंबर तक करेगी ऐसा काम

Onion Price: इस बार

डीएनए हिंदी: भारतीय खाने में प्याज की बेहद खास अहमियत है. कुछ खास दिनों और खास तरह के भोजन को छोड़ दिया जाए तो प्याज के बिना भारतीय रसोई में किसी भी रेसिपी को तैयार करने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता. इसके चलते प्याज के दाम का बढ़ना या घटना बेहद बड़ी खबर बन जाता है. प्याज की कीमतों का असर सरकारों के बनने-बिगड़ने तक पर भी देखा गया है. खासतौर पर प्याज की कीमतों में उतार-चढ़ाव हर साल मानसूनी सीजन से लेकर दिसंबर अंत तक सबसे ज्यादा देखने को मिलता है. ऐसे में सितंबर से दिसंबर तक सरकार की कोशिश प्याज के दामों को काबू में रखने की होती है. इस बार भी इसकी कवायद शुरू कर दी गई है. सरकार ने इसके लिए प्याज के बफर स्टॉक के एक हिस्से को बाजार में कंट्रोल रेट पर उतारना शुरू कर दिया है, जिससे प्याज की कीमत काबू में हो रही है. इसके अलावा लगातार प्याज के भावी उत्पादन, मौजूदा भंडार और एक्सपोर्ट ऑर्डर्स की भी निगरानी की जा रही है.

सबसे पहले समझते हैं किल्लत का कारण

प्याज की फसल अमूमन जुलाई-अगस्त से शुरू होकर सितंबर अंत तक लगाई जाती है, जिससे दिसंबर महीने में नई प्याज बाजार में आ जाती है. इस दौरान यदि प्याज उत्पादन वाले राज्यों में ज्यादा बारिश या सूखा पड़ जाता है तो भंडारित प्याज खराब होने से बाजार में किल्लत पैदा हो जाती है.

सरकार कर रही है कैसी कोशिश

कृषि वेबसाइट Ruralvoice ने अपनी रिपोर्ट में उपभोक्ता मामले विभाग के सचिव रोहित कुमार सिंह के हवाले से प्याज की कीमतों पर काबू पाने की कवायद की जानकारी दी है. सिंह के मुताबिक, केंद्र सरकार ने सहकारी संस्था नेफेड को मूल्य स्थिरीकरण कोष (पीएसएफ) के तहत हर साल प्याज का बफर स्टॉक बनाने की जिम्मेदारी दी है. नेफेड के पास वित्त वर्ष 2022-23 में करीब 2.50 लाख टन प्याज का बफर स्टॉक भंडार में है. इस भंडार में से ही पिछले 3 सप्ताह में 20 हजार टन प्याज नेफेड ने दिल्ली, पटना, लखनऊ, चंडीगढ़, चेन्नई और हैदराबाद जैसे बड़े शहरों में कंट्रोल मार्केट रेट पर उतारा है, जिससे बाजार में किल्लत नहीं हुई है और दाम भी नहीं बढ़े हैं. अब तक 14 राज्यों में करीब 54 हजार टन प्याज बफर स्टॉक से बाजार में भेजा जा चुका है. बफर स्टॉक से प्याज इसी तरह दिसंबर तक धीरे-धीरे बाजार में उतारा जाता रहेगा.

फिलहाल चल रहे हैं ये दाम

रिपोर्ट में बताया गया है कि इस समय देश में 23 से 25 रुपये प्रति किलोग्राम तक के रिटेल रेट पर मिल रहा है. हालांकि नॉर्थ-ईस्ट राज्यों में यह कीमत 40 रुपये प्रति किलोग्राम तक है. यह कीमत उपभोक्ता मामले मंत्रालय के आंकड़ों पर आधारित है. प्याज की कीमतों को स्थिर रखने के लिए केंद्र सरकार ने राज्यों के साथ ही एनसीसीएफ, मदर डेयरी, सफल जैसे उपक्रमों को केंद्रीय बफर स्टॉक से 800 रुपये प्रति कुंतल की कीमत पर प्याज उपलब्ध कराया है.

अगले सीजन के लिए भी 2.50 लाख टन का बनेगा स्टॉक

रिपोर्ट में बताया गया है कि अगले सीजन में भी प्याज की कीमत पर कंट्रोल के लिए प्याज का बफर स्टॉक नई फसल से बनाया जाएगा. यह टारगेट 2.50 लाख टन का ही रखा गया है.

देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगल, फ़ेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

रेटिंग: 4.80
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 582
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *