शेयर ट्रेडिंग

शेयरों की खरीद

शेयरों की खरीद
शॉर्ट टर्म ट्रेडर्स इंट्राडे ट्रेडिंग या स्विंग ट्रेडिंग चुनते हैं। दूसरी ओर, लंबी अवधि के निवेशक डिलीवरी ट्रेडिंग या पोजिशनल ट्रेडिंग का विकल्प चुन सकते हैं।

शेयर खरीदने के नियम | Share Kharidne Ke Niyam

पलटी किस्मत! 43 साल पहले 3500 शेयर खरीद कर भूला शख्स, अब इसकी कीमत 1448 करोड़ रुपये, जानें पूरा मामला

Kerala Babu George Valavi bought 3500 shares and forgot now worth Rs 1448 crore | पलटी किस्मत! 43 साल पहले 3500 शेयर खरीद कर भूला शख्स, अब इसकी कीमत 1448 करोड़ रुपये, जानें पूरा मामला

Highlights केरल के एक शख्स बाबू जॉर्ज वालावी ने 1978 में एक कंपनी में खरीदे थे 3500 शेयर साल 2015 में जॉर्ज को अपने इस निवेश के बारे में याद आया तो उन्होंने इसकी स्थिति पता की। कंपनी का अब नाम बदल चुका है, वहीं दावा है कि जॉर्ड के शेयर किसी और को कंपनी द्वारा बिना बताए बेच दिए गए।

नई दिल्ली: किस्मत का खेल कई बार हैरान कर देता है। ऐसी ही कुछ केरल के एक शख्स बाबू शेयरों की खरीद जॉर्ज वालावी के साथ हुआ है। इन्होंने करीब 43 साल पहले 1978 में एक कंपनी में कुछ शेयर खरीदे थे। इसके बाद वे शेयरों की खरीद इसे भूल गए।

Stock Market के तीन शेयर आपको कर सकते हैं मालामाल, खरीदने से पहले जान लें एक्सपर्ट सुमित बगड़िया की राय

Stock Mearket News

Stock Market News: शेयर बाजार में निवेश कर अगर अच्छे रिटर्न की सपना संजो रहे हैं तो यह खबर आपके लिए हैं. जी हां, शेयर बाजार में कई ऐसे शेयर हैं जिनके स्टॉक खरीदकर आप थोड़े समय में अच्छा रिटर्न ले सकते हैं. स्टॉक मार्केट के जानकार और ब्रोकरेज फर्म चॉइस ब्रोकिंग के कार्यकारी निदेशक सुमित बगड़िया (Executive director Sumeet Bagadia) के मुताबिक एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank), टाटा मोटर्स (Tata Motors) और कोल इंडिया (Coal India) के स्टॉक्स पर निवेश कर आप आने वाले कुछ ही समय में बढ़िया रिटर्न ले सकते हैं.

ज्योतिष: राशि अनुसार इस दिन करें शेयर की खरीदारी तो बन शेयरों की खरीद सकते हैं मालामाल!

Share Market Astrology: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि शेयर मार्केट में निवेश के नुकसान की संभावना को कम करना है तो शुभ दिन पर राशि अनुसार शेयर खरीदना लाभकारी हो सकता है। तो आइए जानते हैं कौन सी राशि के लोगों को किस दिन शेयर में निवेश करना शुभ माना गया है.

share market prediction, share market horoscope, zodiac signs and stock market, which day is good to invest money in share market, share market astrology by zodiac sign, investment in share market, jyotish shastra,

आज बदलते हुए समय और जरूरतों के हिसाब से हर कोई आसानी से और जल्दी पैसा कमाने की चाह रखता है। साथ ही लोग अपने कारोबार के अलावा अलग-अलग माध्यमों से धन कमाने का प्रयास करते हैं। शेयर मार्केट भी एक ऐसा माध्यम है जिसमें कई बार थोड़े से पैसों का निवेश व्यक्ति को अरबपति बन सकता है और कुछ लोगों को इसमें बेहद नुकसान भी झेलना पड़ सकता है। ऐसे में ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि शेयर मार्केट में निवेश के नुकसान की संभावना को कम करना है तो शुभ दिन पर राशि अनुसार शेयर खरीदना लाभकारी हो सकता है। तो आइए जानते हैं कौन सी राशि के लोगों को किस दिन शेयर में निवेश करना शुभ माना गया है.

किसी शेयर को खरीदने और बेचने पर कितने प्रकार से लगता है टैक्स, यहां जानिए पूरी डिटेल

  • Himali Patel
  • Publish Date - October 2, 2021 / 04:33 PM IST

किसी शेयर को खरीदने और बेचने पर कितने प्रकार से लगता है टैक्स, यहां जानिए पूरी डिटेल

सेंसेक्स 60,836 और निफ्टी 18,197 के स्तर तक गया. बाजार लगातार 5वें दिन बढ़त के साथ बंद हुए. सेंसेक्स 452 पॉइंट यानी 0.75% बढ़कर 60,737 पर और निफ्टी 170 पॉइंट यानी 0.94% की तेजी के साथ 18,162 के स्तर पर बंद हुआ था

भारतीय इक्विटी बाजार नई उचाईयों को छूता जा रहा शेयरों की खरीद है और अभी इसकी गिरावट या धीमा होने के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं. इस सितंबर में बीएसई सेंसेक्स पहली बार 60,000 का आकड़ा भी पार कर गया है. क्या आप ऐसे समय के दौरान इक्विटी शेयरों (Stock) के मालिक हैं या खरीदने का इरादा रखते हैं तो आपको शेयरों की बिक्री से जुड़े टैक्स प्रभावों के बारे में पता होना चाहिए.

शार्ट-टर्म पीरियड में होने वाला कैपिटल लॉस और गेन

यदि एक लिस्टेड इक्विटी शेयर एक्वीजीशन के 12 महीनों के भीतर बेचा जाता है, तो सेलर को शार्ट-टर्म कैपिटल गेन या शार्ट टर्म कैपिटल लॉस चुकाना पड़ सकता है. जब शेयरों को खरीदी गयी वैल्यू से अधिक कीमत पर बेचा जाता है, तो विक्रेता को शार्ट टर्म कैपिटल गेन चुकाना होता है और जब शेयरों को खरीदे गए मूल्य से कम कीमत पर बेचा जाता है, तो विक्रेता को शार्ट टर्म कैपिटल लॉस चुकाना पड़ता है.

यदि शेयर बाजार में कारोबार किए गए इक्विटी शेयरों को अधिग्रहण के 1 वर्ष के बाद बेचा जाता है, तो विक्रेता को इस पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन या लॉस पर टैक्स देना पड़ता है. 2018 के बजट की शुरुआत से पहले, इक्विटी शेयर अंडर सेक्शन 10 (38) के तहत लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स से फ्री थे.

2018 के फाइनेंशियल बजट के नए नियमों के अनुसार, यदि कोई विक्रेता इक्विटी शेयरों की बिक्री पर 1 लाख रुपये से अधिक का शेयरों की खरीद शेयरों की खरीद लॉन्ग टर्म लाभ अर्जित करता है, तो यह लाभ 10% के शेयरों की खरीद कैपिटल गेन टैक्स के अधीन आता है. इसके अलावा, यहां विक्रेता इंडेक्सेशन का लाभ नहीं उठा पाएगा. ये नियम 1 अप्रैल, 2018 को या उसके बाद किए गए लेन-देन पर लागू होता हैं.

इक्विटी शेयरों से लाभ का टैक्सेशन

आपके टैक्स ब्रैकेट के बावजूद, शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन पर 15% टैक्स लगता है. शेयर बाजार में लिस्टेड इक्विटी शेयरों पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स पर 1 लाख रुपये तक के टैक्सेशन से छूट है. इक्विटी शेयरों की बिक्री पर 1 लाख रुपये से अधिक का लाभ 10% लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स के अधीन आता है और इस पर इंडेक्सेशन संभव नहीं होता है. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि पूर्वगामी टैक्स दरें तभी लागू होती हैं जब लेनदेन पर सिक्योरिटी ट्रांसक्शन टैक्स (STT) का भुगतान किया जाता है.

इक्विटी शेयरों की बिक्री से किसी भी शार्ट टर्म कैपिटल लॉस को किसी भी पूंजीगत संपत्ति की बिक्री से किसी भी अल्पकालिक शेयरों की खरीद या दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ के खिलाफ ऑफसेट किया जा सकता है. यदि नुकसान को समायोजित नहीं किया जाता है, तो इसे अतिरिक्त आठ वर्षों के लिए आगे बढ़ाया जा सकता है और उन आठ वर्षों के दौरान किए गए किसी भी शार्ट टर्म या लॉन्ग टर्म पूंजीगत लाभ के खिलाफ ऑफसेट किया जा सकता है. लंबी अवधि के कैपिटल लॉस को किसी भी अन्य दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ के मुकाबले ऑफसेट किया जा सकता है और लंबी अवधि के लाभ के खिलाफ ऑफसेट करने के लिए लंबे समय तक पूंजी हानि को शेयरों की खरीद अगले आठ वर्षों तक आगे बढ़ाया जा सकता है.

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने शेयर खरीदने के नियम (Share Kharidne Ke Niyam), के बारे में विस्तार से जाना हैं। शेयरों की खरीद मैं आशा करता हूँ की आप सभी को हमारा यह आर्टिकल जरुर से पसंद आया होगा।

अब यदि आपको यह लेख पसंद आया हैं और इससे कुछ भी नया सिखने को मिला हो तो इसे अपने सभी दोस्तों के साथ भी जरुर से शेयर करें।

आर्टिकल को अंत तक पढने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद!

सुधांशु HindiQueries के संस्थापक और सह-संस्थापक हैं। वह पेशे से एक वेब डिज़ाइनर हैं और साथ ही एक उत्साही ब्लॉगर भी हैं जो हमेशा ही आपको सरल शब्दों में बेहतर जानकारी प्रदान करने के प्रयास में रहते हैं।

रेटिंग: 4.87
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 392
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *